Amla Benefits (आँवला) In Ayurveda

Amla Benefits (आँवला) In Ayurveda

AMLA BENEFITS HOME REMEDIES

खुनी बवासीर – सूखे आँवले (Gooseberry) महीन करके 6-6 माशे सुबह-शाम गाय के दूध से दीजिये |

पेशाब में जलन – हरे आँवले (Gooseberry) का रस 5 तोला, शहद 2 तोले मिलाकर सुबह-शाम पिलाइए | पेशाब साफ़ आयेगा तथा जलन समाप्त करेगा |

नकसीर – यदि नाक से रक्त आना न रुके तब आधा पाव आँवला (Gooseberry) महीन करके बकरी के दूध में मिलकर मस्तिष्क और सर पर लेप कीजिए |

दिल की धड़कन – जिनका दिल बहुत घबराए वे 1 छटांक आँवला का मुरब्बा (Gooseberry-Murabba) पर दो चाँदी के वर्क लगाकर प्रांत: निहार कुछ दिन सेवन करें |

घबराहट – सूखे आँवले 1 पाव बार्रिक करके आँवला के आधे पाव रस में तीन दिन खरल केके सूखने पर मिश्री मिलाइए | शाक को गाय के दूध के साथ इस्तेमाल से धातु में लाभप्रद है |

सिर में चक्कर आना – गर्मियों में चक्कर आने, जी घबराने पर आँवले का शर्बत पिलाइये |

बलगम – आँवले 3 माशे मुलहठी समान पीसकर सुबह-शाम खाने से बलगम साफ़ हो जाती है |

ल्युकोरिया – आँवले 3 माशे मुलहठी 2 माशे शहद डालकर दिन में 1 बार पन्द्रह दिन तक दीजिए लाभ होगा |

स्वपनदोष :  (1 ) एक मुरब्बे का आंवला नित्य खाने से लाभ होता है | (2) काँच के गिलास में सूखे आंवले 20 ग्राम पीसकर डालें | इसमें 60 ग्राम पानी भरे और बाहर एक घंटा भीगने दें| फिर शान कर इस पानी में 1 ग्राम पीसी हुई हल्दी डालकर पीयें | युवकों के स्वपनदोष लिए अच्छी औषधि है |

पथरी : आंवले का चूर्ण मूली के साथ खाने से मूत्राशय की पथरी में लाभ होता है | 

कुष्ट : एक चम्मच आंवले के चूर्ण की सुबह शाम फंकी लें | 

मधुमेह : ताजे आंवले के रस में शहद मिलाकर पीने से मधुमेह ठीक हो जाता है | 

कब्ज : रात को एक चम्मच पिसा हुआ हमला पानी या दूध से लेने से सुबह दस्त साफ आता है, कब्ज नहीं रहती |  आंतें तथा पेट साफ होता है |

,

2 thoughts on “Amla Benefits (आँवला) In Ayurveda

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *