Benefits Of Banana (केला) In Ayurveda

Benefits Of Banana (केला) In Ayurveda

HEALTH BENEFITS OF BANANA IN AYURVEDA

लेटिन नाम : म्यूजा सेपीएन्टम (Musa sapientum)

भूखे पेट केला नहीं खाना चाहिए। भोजन के बाद केला खाने से ताकत देता है। मांस-पेशियाँ मजबूत होता हैं। एक समय में तीन से अधिक केले नहीं खाने चाहिए।  रात को केला खाने से गैस पैदा होती है।  त्रिदोष-शान्ति के लिए केला और शक़्कर खायें। केले से अजीर्ण होने पर इलायची खायें |

पौष्टिक पदार्थ : केला वीर्यवर्धक, शुक्रवर्धक है; नेत्र रोगों में लाभदायक है। केला शक्तिदायक खाद्य है। केला फल नहीं है। इसे रोटी की जगह खाना चाहिए। केले में स्टार्च और शर्करा अधिक होती है। छोटे बच्चों को इसे दूध में मिलाकर दे सकते हैं। केला कफ व् रक्तपित्त नाशक है।

आन्त्रज्वर (Typhoid) : आन्त्रज्वर के रोगियों के लिए केला आदर्श भोजन है। यह भूख, प्यास कम करता है।

दाद , खाज हो तो केले गुदे को नींबू के रस में पीस लें और लगायें, इससे लाभ होता है। लगाने से, पहले दाद फुला हुआ लगेगा, लेकिन डरें नहीं, बाँधते रहे। दाद ठीक हो जायेगा।

दिल का दर्द – दो केले एक तौला शहद में डालकर खाने से लाभ मिलेगा।

मुँह के छाले – गाय के दूध के दही के साथ केला खाएं आराम मिलेगा।

सूजन : केला सब तरह  सूजन में हितकारी है।

हृद्शूल : दो केले 15 ग्राम शहद में मिलाकर खाने से ह्रदय के दर्द में लाभ होता है।

आँतों की मर्ज – दो केला, आधा पाव दही के साथ खाएं दस्त, पेचिश, संग्रहणी को ठीक करेगा।

नकसीर – एक पका केला शक्कर मिले दूध के साथ 8 दिन खाएं।

बालों के लिए – केले का प्रयोग बालों के लिये भी लाभकारी है। केले का प्रयोग करके बालों को चमकदार और मुलायम बना सकते हैं। कोको पाउडर, नारियल का दूध और केला मिलाकर बालों में अच्छी तरह लगायें और कुछ देर बाद बाल धों लें। बाल मुलायम और चमकदार हो जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *