Childhood illness : बच्चों में होने वाले रोगों के लिए घरेलू उपचार

Childhood illness : बच्चों में होने वाले रोगों के लिए घरेलू उपचार

HOME REMEDIES IN CHILDHOOD ILLNESS

बच्चों के चेचक में –

रुद्राक्ष के दाने को पत्थर पर पानी के सहारे घिसकर 3 माशा पिलाने से चेचक के दाने नहीं निकलते या कम निकलते हैं |

बच्चों का दूध न पीना –

आँवला और हरड को बारीक चूर्ण बनाकर मधु (Honey) में मिलाकर जीभ पर लगाने से बच्चा दूध पीने लगता है |

बच्चों के मुँह आने पर –

चौकिया सुहाग पीसकर ताँबे पर भुनकर पीसकर लें | शहद में मिलाकर ऊँगली से मुँह, जबान व् मसूड़ों पर लगायें | मुँह के छाले ठीक हो जाएंगे और दांत आसानी से निकल आयेंगे तथा दाँत निकलके समय की सारी तकलीक दूर हो जाएगी |

बच्चों में सुखा रोग –

मुली के पत्तों को पीसकर उसका रस निकालकर गर्म करके एक चम्मच सुबह-शाम पिलाने से बच्चों का सुखा रोग अच्छा होता है |

बच्चों का बिस्तर में पेशाब करना –

यदि आपना बच्चा 3 वर्ष की आयु के बाद भी बिस्तर पर पेशाब करता है | लापरवाही न करें | एक तोले चिरौंजी एक पाव दूध में उबालें | बच्चों को चिरौंजी चुबाकर खिलाएं | बाद में दूध पिलाएँ | दूध में चीनी नहीं, मिश्री डालें | लगभग एक माह नियम से खिलाएं | चाय का परहेज करें | बच्चा फिर कभी बिस्तर पर पेशाब नहीं करेगा |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *