Uses of Onion (प्याज) In Ayurveda

Uses of Onion (प्याज) In Ayurveda

Uses of Onion (प्याज) –

कान दर्द – प्याज गर्म राख में भुनकर उसका पानी निचौड कर कान में डालने से पीड़ा में लाभ होगा |

जहर – प्याज का रस, नौसादर (फिटकरी) 1-1 तोला दोनों को खरल करके शीशी में रखें | मक्खी, बिच्छू, ततैया बगैराह के काटने पर लगाने से दर्द में लाभ होगा |

मोतियाबिंद – प्याज का रस शहद 1-1 तोला, भीमसेनी कपूर 2 माशे | सबको खूब मिलाकर रात को नेत्रों में लगाने से मोतियाबिंद का असर रुक जाता है |

सूरमा – कला सूरमा 1 छटांक प्याज के आधा सेर रस में सुखाओ | यह धुंध जाला, रोहो में हितकर है |

पेशाब में जलन प्याज के 2 तोले रस में समान जल डालकर उबालों | आधा रहने पर पिलाने से जलन ठीक होगी |

साँप काटे पर – 2 तोले प्याज का रस छानकर सरसों के तेल में दल दो | दो घंटे बाद तीन खुराक दें | काटे स्थान पर पोटेशियम परमेगनेट डाल दें  फायदा होगा |

एक प्याज को चार हिस्सों में काटकर बिस्तर के पास रखें और सो जाएं | इससे सर्दी और खांसी की समस्या दूर होती है | ऐसा इसलिए क्योंकि प्याज में एंटी बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं | जो कि इंफेक्शन को फैलने से रोकते हैं. इसके साथ ही प्याज को बिस्तर के पास रखकर सोने से नींद भी काफी अच्छी आती है |

1 thought on “Uses of Onion (प्याज) In Ayurveda

Leave a Reply

Your email address will not be published.