गेंहुँ (Wheat) के अदभुत फायदे जो कि कैंसर तक तो ख़तम कर दे जानिए Ailcure Remedies में Part 1

खुजली : गेंहूँ (wheat) के आटे में पानी मिलाकर लेप करने से चर्म की दाह, खुजली, फोड़े, फुन्सी और अग्नि से जले हुए पर लगाने से लाभ होता है |

खाँसी : 20 ग्राम गेंहूँ (Wheat), 9 ग्राम सैंधे नमक को पाँव भर पानी में औटाकर तिहाई पानी रहने पर छानकर पिलाने से सात दिन में खाँसी मिट जाती है |

पेशाब की जलन : रात को 12 ग्राम गेंहूँ (Wheat) 250 ग्राम पानी में भिगो दें | प्रांत: छान कर उस पानी में 25 ग्राम मिश्री मिलाकर पीने से पेशाब की जलन दूर होती हैं |

पथरी : गेंहूँ (Wheat) और चनों को औटाकर उसका पानी पिलाने से गुर्दों और मूत्राशय की पथरी गल जाती है |

दर्द : गेंहूँ की रोटी (Wheat Bread) एक और सेक लें, एक ओर कच्ची रखें | कच्ची की और तिल का तेल लगा कर दर्द वाले अंग पर बाँध दें | इससे दर्द दूर हो जायेगा |

नपुंसकता, बाँझपन : आधा कप गेंहूँ (Wheat) को बारह घण्टे पानी में भिगोयें | फिर गीले मोटे कपडे में बाँध कर चौबीस घंटे रखें | इस तरह छत्तीस घंटे में अंकुर निकल जायेंगे | इन अंकुरित गेहुँओं को बिना पकाये ही खायें | स्वाद के लिए गुड़ या किशमिश मिलाकर खा सकते हैं | इन अंकुरित गेहुँओं में विटामिन (E) भरपूर मितला है | यह स्वस्थ एवं शक्ति का भंडार है | नापुंसकता एवं बाँझपन में यह लाभकारी है | केवल संतानोत्पति के लिए 25 ग्राम अंकुरित गेंहूँ तीन दिन और फिर तीन दिन इतने ही अंकुरित उड़द पर्यायकर्म से खाने चाहिए | यह प्रयोग कुछ महीने करें | गेंहूं के अंकुर अमृत हैं | इनमें शरीर की रक्षा के लिए आवश्यक सभी विटामिन प्रचुर मात्रा में मिलते हैं | गेहूँ के अंकुर खाने से सभी रोग दूर हो जाते हैं |

,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *